Breaking News

Chak De! India अलीगढ़ की प्रतिभाओं के दिल में देश और हाथ में हाकी लेकर आगे बढ़ने का जूनून पढ़ाई के साथ खेल मे.. – दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

Aligarh Sports अलीगढ़ में हाकी खेल के प्रशिक्षण के लिए न तो प्रशिक्षक हैं और न ही पर्याप्त संख्या में प्रशिक्षु खिलाड़ी ही हैं। मगर अलीगढ़ जिले के कुछ युवा खिलाड़ी खासतौर से बेटियां खासी रुचि के साथ इस खेल में अपनी प्रतिभा दिखाते हुए आगे बढ़ रही हैं।

अलीगढ़, जागरण संवाददाता: हाकी के जादूगर व मेजर दादा के नाम से विख्यात खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद को हाकी का पर्याय कहा जाता है। जिले में हाकी खेल के प्रशिक्षण के लिए न तो प्रशिक्षक हैं और न ही पर्याप्त संख्या में प्रशिक्षु खिलाड़ी ही हैं। मगर अलीगढ़ जिले के कुछ युवा खिलाड़ी खासतौर से बेटियां खासी रुचि के साथ इस खेल में अपनी प्रतिभा दिखाते हुए आगे बढ़ रही हैं।

मेजर दादा को ध्यान में रखकर चंद प्रतिभाएं निरंतर इस खेल में आगे बढ़ रही हैं। इन्हीं प्रतिभाओं के बलबूते जिले में हाकी फिर से दम भरने को तैयार है। बालक-बालिका खिलाड़ी छोटी उम्र से ही इस खेल में महारथ ही नहीं हासिल कर रहे बल्कि राज्य व राष्ट्रस्तर तक अपनी प्रतिभा का लोहा भी मनवा रहे हैं।
खास बात ये है कि इन प्रतिभाओं में ज्यादातर पढ़ाई में भी अव्वल आ रहे हैं। यानी पढ़ाई के साथ-साथ हाकी खेल में आगे बढ़ने का जुनून निश्चित ही शानदार संकेत है। ऐसी ही प्रतिभाओं पर प्रस्तुत है गौरव दुबे की रिपोर्ट…

12 वर्ष की उम्र में थामी हाकी स्टिक
मेजर दादा को आदर्श मानने वालीं जमालपुर निवासी 16 वर्षीय सिमरन शकील ने 12 वर्ष की उम्र में हाकी स्टिक थामी। उन्होंने बताया कि 2018 में हाकी सीखना शुरू किया। एएमयू के मैदान पर कोच अरशद महमूद व अनीसुर रहमान के निर्देशन में प्रशिक्षण लेती हैं। 2019 में मंडलीय टीम में बतौर फारवर्ड खिलाड़ी चयनित हुईं। इटावा में यूपी स्टेट खेला और इसी वर्ष दूसरी स्टेट चैंपियनशिप गोरखपुर में खेली। इसमें टीम ने गोल्ड मेडल जीता। 2021 में गोवा में नेशनल हाकी टूर्नामेंट खेला। इसमें यूपी की टीम ने स्वर्ण पदक जीता। एएमयू के वीमेंस कालेज से 80 प्रतिशत अंकों के साथ 12वीं पास की है। हाकी में इंटरनेशनल चैंपियनशिप खेलने का सपना संजोए हैं।


पिता बनाते चाय, बेटी कर रही गोल
कासिमपुर पावर हाउस निवासी 19 वर्षीय हाकी खिलाड़ी श्वेता गोयल ने 2014 से इस खेल में कदम रखा। दो दिन नवाब सिंह इंटर कालेज में और पांच दिन एएमयू के मैदान में प्रैक्टिस करने जाती हैं। 2017 में पहली बार नेशनल हाकी टूर्नामेंट में चयनित हुईं। 2015 और 2017 में स्टेट हाकी चैंपियनशिप खेलीं। श्वेता ने बताया कि उनके पिता आनंद गोयल चाय बनाने का काम करते हैं। मां सुधा गोयल गृहणी हैं। एएसएम डिग्री कालेज से बीए प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रही हैं। बताया कि थोड़ी आर्थिक तंगी तो रहती है लेकिन देश के लिए खेलने का सपना लेकर आगे बढ़ रही हैं। सीनियर्स के साथ खेलकर हाकी के गुर सीखती रहती हैं।

हाकी में ओलंपिक तक खेलने की चाह
जमालपुर निवासी 18 वर्षीय अबीरा रिजवान ने 15 वर्ष की उम्र से हाकी सीखना शुरू किया। चार डिस्ट्रिक्ट चैंपियनशिप खेली हैं। टीम में बतौर लेफ्ट आउट व अटैक पोजीशन में खेलती हैं। तीन घंटे नियमित हाकी की प्रैक्टिस एएमयू के मैदान पर करती हैं। एएमयू से ही बीकाम प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रही हैं। इंटरमीडिएट में 82 प्रतिशत अंकों के साथ प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुईं। हाकी में ओलंपिक तक खेलने का सपना है। इसलिए पढ़ाई के साथ इस खेल में जी-तोड़ मेहनत कर रही हैं। कहा कि वे मेजर ध्यानचंद के जीवन से काफी प्रेरित हैं। इसलिए इस खेल में वे अपनी क्षमता से कहीं ज्यादा मेहनत करने में जुटी हैं।


आर्थिक तंगी भी डिगा सकी हौसला
13 वर्ष की उम्र में हाकी स्टिक थामने वाली शाबी खान ने 2019 से हाकी का ककहरा सीखना शुरू किया। अभी एएमयू से 79 प्रतिशत अंकों के साथ हाईस्कूल पास किया है। बताया कि पिता अब्दुल रहीम इंटरनेट प्रदाता कंपनी का वाई-फाई लगाने का काम करते हैं। बताया कि आर्थिक तंगी की समस्या रहती है। देश के लिए खेलना व अपने पैरों पर खड़ा होना है। परिवार का सहारा बनना है। इसलिए एएमयू में चार घंटे प्रैक्टिस में पसीना बहाती हैं। 2019 में ही अयोध्या स्टेट टूर्नामेंट के लिए चयन हुआ। फिर 2019 में ही इटावा स्टेट टूर्नामेंट के लिए भी चयन हुआ। बतौर डिफेंडर टीम में खेलती हैं। 2021 में गोवा के नेशनल टूर्नामेंट में खेलीं और टीम ने स्वर्ण पदक जीता।

दानिश की 11 इंटरनेशनल खिलाड़ी
साहबबाग अनूपशहर रोड निवासी 47 वर्षीय दानिश अली खान ने बताया कि 1994 में एएमयू में दाखिला लिया था। 1992 में हाकी खेलना शुरू किया था। एएमयू से वर्ष 1997 से 2000 तक इंटरयूनिवर्सिटी चैंपियनशिप खेलीं। 1999 में नेशनल टीम के कैंप में भी चयनित हुए। वर्ष 2000 में सीनियर नेशनल खेला। केडी सिंह बाबू स्पोट्र्स स्टेडियम में कोच, मैनेजर व सेलेक्टर रहे। बताया कि उन्होंने एक दर्जन इंटरनेशनल हाकी खिलाड़ी तैयार किए हैं। इनमें 11 महिला खिलाड़ियों के नाम हैं।

Copyright © 2022 Jagran Prakashan Limited.

source

About Summ

Check Also

All 2022 Superhero Movies, Ranked According to IMDb – Collider

From ‘Morbius’ to ‘The Batman’, IMDb’s definitive ranking of 2022’s superhero cinema. The superhero genre …