न्यायपालिका में केंद्र का दखल खतरनाक, देश के धर्म और भाषा के आधार पर बंटने का खतरा: जस्टिस संतोष हेगड़े – Navjivan

Follow Us
कर्नाटक के पूर्व लोकायुक्त और सर्वोच्च न्यायालय के (सेवानिवृत्त) न्यायाधीश, न्यायमूर्ति एन. संतोष हेगड़े ने मंगलवार को न्यायाधीशों की नियुक्ति और न्यायिक प्रणाली में केंद्र सरकार के हस्तक्षेप को गलत और खतरनाक करार दिया। मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने रेखांकित किया कि कार्यपालिका को न्यायपालिका में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी- इस तरह का हस्तक्षेप खतरनाक है।
हेगड़े ने कहा, राजनेताओं को न्यायपालिका के बारे में कोई जानकारी नहीं होनी चाहिए। लोकायुक्त बनने से पहले मैं समाज के बारे में ज्यादा नहीं जानता था। जो अमीर बनेंगे उन्हें पूरा सम्मान मिलेगा। जेल से बाहर आने वालों का भव्य स्वागत किया जाता है।
हेगड़े ने आगे कहा कि देश के धर्म और भाषा के आधार पर बंटने का खतरा है। हालांकि, कोई नहीं कह सकता कि यह कब होगा। देश में भ्रष्टाचार व्याप्त है। जनप्रतिनिधियों में जनता के मालिक होने का भाव आ रहा है। राजनेता सिर्फ भ्रष्टाचार की बात कर रहे हैं और एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। कोई भी इसे ठीक नहीं करना चाहता है।

उन्होंने कहा कि अगर यह स्थिति बनी रही तो लोग व्यवस्था के खिलाफ बगावत कर देंगे, लेकिन उन्हें नहीं पता कि यह स्थिति कब आएगी। मुझे कई पुरस्कार, मान्यताएं मिली हैं। मैंने संगठनों को पैसे दान किए हैं। मैंने किसी से पैसे स्वीकार नहीं किए हैं। मेरे पास एक अपार्टमेंट है और कुछ नहीं। हमें साफ-सुथरा रहना है।

हेगड़े ने यह भी कहा कि मामलों के निस्तारण में देरी नहीं होनी चाहिए, लेकिन समाज को एक अलग संदेश मिल रहा है क्योंकि समाधान के लिए मध्यस्थों से संपर्क किया जा रहा है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ
Google न्यूज़, नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें
प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia

source

About Summ

Check Also

IPL 2022: परफैक्ट कैप्टन साबित हुए ये 5 खिलाड़ी, टीम को लीड करने के साथ-साथ बल्ले से भी – ABP न्यूज़

By: ABP Live | Updated at : 25 May 2022 08:44 AM (IST) फोटो क्रेडिट: …