खेल की स्थानीय खबरों को भी कवरेज में प्राथमिकता दे मीडिया: पुलेला गोपीचंद – Samachar4media

भारतीय बैडमिंटन टीम के कोच पुलेला गोपचंद ने e4m-GroupM Let’s Play sports marketing summit में ‘Sportstar’ के एडिटर अयोन सेनगुप्ता से तमाम मुद्दों पर की चर्चा
‘एक्सचेंज4मीडिया’ और ‘ग्रुपएम’ की स्पोर्ट्स मार्केटिंग समिट (e4m-GroupM Let’s Play sports marketing summit) बुधवार को दिल्ली में आयोजित हुई। इस कार्यक्रम में एक सत्र के दौरान भारतीय बैडमिंटन टीम के कोच पुलेला गोपीचंद और ‘स्पोर्टस्टार’ (Sportstar) के एडिटर अयोन सेनगुप्ता के बीच काफी रोचक चर्चा हुई। इस चर्चा के दौरान खेल को कॉरपोरेट जगत के सपोर्ट, भारत में बैडमिंटन का भविष्य और भारतीय मीडिया में स्थानीय खेलों की कवरेज समेत गोपीचंद ने विभिन्न विषयों पर अपनी बात रखी।
इस बातचीत के दौरान भारत में खेलों के विकास के लिए कॉरपोरेट घरानों के सपोर्ट के बारे में पूछे जाने पर गोपीचंद ने कहा, ‘निश्चित रूप से भारतीय स्पोर्ट्स जगत को पिछले कुछ वर्षों में कॉरपोरेट घरानों का अच्छा सपोर्ट मिला है। टाटा, कोटक, डालमिया और आईडीबीआई फेडरल आदि ने स्पोर्ट्स पर अच्छा खासा पैसा लगाया है। मुझे लगता है कि देश के तमाम कॉरपोरेट घराने भी स्पोर्ट्स की ओर देख रहे हैं। यदि हम बेहतर प्रदर्शन चाहते हैं तो हमें बुनियादी ढांचा भी तैयार करना होगा। यह काफी महत्वपूर्ण है। लेकिन, खेल के सभी पहलुओं के लिए समान रूप से एक ढांचा तैयार करने की आवश्यकता भी है। जैसे-इंफ्रास्ट्रक्चर, कोच, सपोर्ट स्टाफ, पॉलिसीज आदि। इन सभी को साथ-साथ मिलकर चलना होगा।’
गोपीचंद ने यह भी बताया कि स्थानीय खेलों को कैसे अब मीडिया में ज्यादा कवरेज नहीं मिलता है। उनका कहना था, ‘अगर आप तमाम अखबारों के पहले पन्ने को देखें, तो उस पर अधिकांश स्थानीय समाचार मिलते हैं। पिछले पृष्ठ पर भी कुछ इसी तरह का होता है, लेकिन, खेल की ग्लोबल खबरें होती हैं। ऐसा लगता है कि अन्य सभी खबरें लोकल हैं, लेकिन स्पोर्ट्स की खबरें ग्लोबल हैं। यानी स्थानीय खेल समाचारों की कवरेज को प्राथमिकता नहीं मिलती है। यह काफी चिंता का विषय है। यदि हम पुरानी बात करें तो उस समय अखबार में अपना नाम देखना मेरे लिए बहुत बड़ी प्रेरणा थी और मैं उस पर निशान लगाता था, मेरी मां उसे रेखांकित करती थीं और उसे दिखाती थीं। यह एक बहुत बड़ी प्रेरणा है और मुझे सच में लगता है कि हमें इसे वापस शुरू करना चाहिए। इसलिए, मेरा मानना है कि अखबारों के पिछले पृष्ठ पर स्थानीय खेल के लिए स्थान चिह्नित करें। यह ऐसी चीज है, जिसके बारे में मैं दृढ़ता से महसूस करता हूं।’
इस चर्चा के आखिर में गोपीचंद ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में स्पोर्ट्स अथॉरिटी में काफी अहम सुधार हुए हैं। गोपीचंद का कहना था, ‘निश्चित रूप से हमारा लगातार ऐसे लोगों के साथ लंबे समय तक संपर्क रहा, जो वास्तव में खेल में रुचि रखते हैं। और क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रुचि रखते हैं, अब कोई भी चीजों को हल्के में नहीं लेता है। पहले के मुकाबले इस सरकार में खेलों के साथ जिस तरह से व्यवहार किया जाता है, उसमें काफी अंतर है। इसलिए हम इसे बहुत अच्छे रूप में देख रहे हैं।
‘IBLF’ के गुरुग्राम चैप्टर में ‘GoDaddy’ के वाइस प्रेजिडेंट और मैनेजिंग डायरेक्टर (इंडिया) निखिल अरोड़ा ने अपनी किताब ‘The Subtle Shifts of Radical Change’ पर चर्चा की।
देश के प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान ‘BW बिजनेस वर्ल्ड’ द्वारा ‘इंडिया बिजनेस लिटरेचर फेस्टिवल’ (IBLF) के तहत 11 जनवरी 2023 को गुरुग्राम चैप्टर का आयोजन किया गया। गुरुग्राम के ‘द लीला’ (The Leela) होटल में 11 जनवरी की सुबह नौ बजे से विभिन्न सत्रों में आयोजित इस कार्यक्रम में देश-विदेश के शीर्ष लेखक, शिक्षाविद, विद्वान और प्रकाशक शामिल हुए और अपने विचार रखे।
ऐसे ही एक सत्र में ‘गोडैडी’ (GoDaddy) के वाइस प्रेजिडेंट और मैनेजिंग डायरेक्टर (इंडिया) निखिल अरोड़ा ने अपनी किताब ‘The Subtle Shifts of Radical Change’ पर चर्चा की। अपनी इस किताब में उन्होंने कोरोना महामारी के दौरान हुए प्रमुख बदलावों के बारे में बताया है।
कार्यक्रम में निखिल अरोड़ा का कहना था कि महामारी के दौरान तमाम लोग खुद को एक जैसी स्थिति में ही पा रहे थे। ऐसे में लोगों के व्यवहार से लेकर तमाम चीजों में किस तरह का बदलाव आया, यह किताब इस बारे में बताती है। अरोड़ा ने उल्लेख किया कि महामारी ने हमें दुनिया के साथ एक समुदाय होने के महत्व का अहसास कराया।
भविष्य में काम करने के तरीकों के बारे में निखिल अरोड़ा का कहना था कि महामारी के दौरान घर से काम करना सुविधाजनक और प्रासंगिक था, लेकिन भविष्य में हाइब्रिड मोड अपनाने की आवश्यकता होगी।
काम पर लौटने के लिए वर्कर्स की अनिच्छा के संदर्भ में निखिल अरोड़ा का मानना था कि तमाम बिजनेस अपनी एचआर पॉलिसियों को अपडेट करें और एंप्लॉयीज के लिए टीम बिल्डिंग को बढ़ावा दें। इसके साथ ही वर्कर्स के लिए मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक माहौल तैयार करें।
आज के दौर में एक लीडर की नई भूमिका को परिभाषित करते हुए, उन्होंने कहा कि अब एक लीडर को विश्वास बहाली के साथ सहानुभूति रखने की आवश्यकता है और उसे एंप्लॉयीज को कंपनी के अनुरूप लाने में सक्षम होना चाहिए।
उन्होंने कहा कि GDP में ‘G’ दर्शाता है कि एक लीडर को सरकार और सार्वजनिक नीति से डील करने के लिए प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है, क्योंकि महामारी दिखाती है कि हर चीज में सरकार की अनिवार्य रूप से महत्वपूर्ण भूमिका है। इसमें ‘D’ डी-ग्लोबलाइजेशन को दर्शाता है जो वैश्विक मंदी के दौर में भारतीय अर्थव्यवस्था के लचीलेपन का सबूत है, जो घरेलू खपत से प्रेरित थी और ‘P’ उस उद्देश्य को दर्शाता है, जिसे लीडर को पूरे संगठन में सुनिश्चित करने की आवश्यकता होती है। इसमें सामुदायिक-निर्माण का पहलू भी शामिल है।
एक कंपनी के लिए उत्तराधिकार योजना में आमूल-चूल परिवर्तन की व्याख्या करते हुए, अरोड़ा ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि एक नेता कितना कुशल और मुस्तैद है, उसकी सोचने-समझने की क्षमता और स्पष्टता के साथ उसकी सहजता कितनी है।
बता दें कि तीन संस्करणों की शानदार सफलता के बाद यह इस कार्यक्रम का चौथा संस्करण है, जो 21 शहरों में आयोजित किया जाना है, जिसमें दिल्ली और गुरुग्राम चैप्टर के बाद अब 21 जनवरी को मुंबई चैप्टर का आयोजन किए जाएगा।
‘IBLF’ के गुरुग्राम चैप्टर में RachnaRestores की फाउंडर रचना छाछी ने अपनी किताब ‘Alive’ के बारे में चर्चा की, जिसमें उन्होंने सुखमय जीवन जीने के लिए तमाम टिप्स दिए हैं।
‘RachnaRestores’ की फाउंडर रचना छाछी का कहना है कि हमें अपने सपनों को पूरा करने के लिए स्वस्थ दिमाग और स्वस्थ शरीर की जरूरत है और इसी ने मुझे अपनी किताब ‘Alive’ लिखने के लिए प्रेरित किया।
रचना छाछी ने देश के प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान ‘BW बिजनेस वर्ल्ड’ द्वारा 11 जनवरी को ‘इंडिया बिजनेस लिटरेचर फेस्टिवल’ (IBLF) के गुरुग्राम चैप्टर में आयोजित एक सत्र के दौरान यह बात कही। इस दौरान उन्होंने अपनी किताब ‘Alive’ के बारे में चर्चा की, जिसमें उन्होंने स्वस्थ जीवनशैली के अलावा तमाम बीमारियों को किस तरह मात दी जाए, इस बारे में विस्तार से बताया है।
गौरतलब है कि गुरुग्राम स्थित ‘द लीला’ (The Leela) होटल में सुबह नौ बजे से आयोजित इस कार्यक्रम में देश-विदेश के शीर्ष लेखक, शिक्षाविद, विद्वान और प्रकाशक शामिल हुए और विभिन्न सत्रों में अपने विचार रखे।
इस मौके पर मानसिक स्वास्थ्य के साथ-साथ शारीरिक स्वास्थ्य के महत्व पर चर्चा करते हुए रचना छाछी का कहना था, ‘स्वस्थ तन-मन हमें खुशहाल जीवन जीने में मदद कर सकते हैं।’ बीमारी को लेकर अपने व्यक्तिगत अनुभव का जिक्र करते हुए रचना छाछी ने बताया कि कैसे वह ठीक हुईं और अब किस तरह से लोगों को बीमारी के प्रति जागरूक करने व स्वस्थ रहने के लिए प्रेरित करती हैं।
अपनी इस किताब के लिए छाछी दुनिया भर के सैकड़ों लोगों (युवाओं से लेकर बुजुर्गों तक) का इंटरव्यू ले चुकी हैं कि वे स्वस्थ रहने अथवा बीमारी को दूर करने के लिए क्या करते हैं।
छाछी का कहना है, ‘यदि आपकी मनस्थिति ठीक नहीं है तो कुछ भी अच्छा नहीं हो सकता है। एक तरह का डर होता है, जो हमें दबाए रखता है और हमें अपना वास्तविक जीवन जीने नहीं देता। मनस्थिति इस बात पर भी निर्भर करती है कि हम अपने साथ कितना समय बिताते हैं। इसलिए यदि हम अपने मन को खुश रखते हैं तो हम अपने सपनों को पूरा कर सकते हैं और सुखी जीवन जी सकते हैं।’  
छाछी के अनुसार, ‘आज के दौर में नींद न आने की समस्या बहुत आम हो गई है। कुछ लोगों का मानना ​​है कि अच्छी नींद महत्वपूर्ण है, जबकि कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि आठ घंटे की नींद बहुत जरूरी है, लेकिन मेरा मानना है कि ये दोनों चीजें महत्वपूर्ण हैं।’
छाछी ने कहा कि हर शारीरिक स्थिति या बीमारी तेजी से बढ़ती उम्र और ऑक्सीडेटिव तनाव से आती है। ऐसे में व्यक्ति सांस लेने के व्यायाम का अभ्यास कर सकता है और चरणबद्ध तरीके से योग कार्यक्रम कर सकता है।
बता दें कि तीन संस्करणों की शानदार सफलता के बाद 'IBLF' का यह चौथा संस्करण है, जो 21 शहरों में आयोजित किया जाना है, जिसमें दिल्ली और गुरुग्राम चैप्टर के बाद अब 21 जनवरी को मुंबई चैप्टर का आयोजन किए जाएगा।
IBLF के गुरुग्राम चैप्टर में ‘NASSCOM’ के पूर्व प्रेजिडेंट डॉ. किरण कार्निक और ‘विजडम ट्री’ के फाउंडर व पब्लिशर शोभित आर्य ने ज्यादा से ज्यादा लोगों को गरीबी रेखा से ऊपर उठाने के बारे में चर्चा की।
देश के प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान ‘BW बिजनेस वर्ल्ड’ द्वारा 11 जनवरी को ‘इंडिया बिजनेस लिटरेचर फेस्टिवल’ (IBLF) के गुरुग्राम चैप्टर का आयोजन किया गया। गुरुग्राम स्थित ‘द लीला’ (The Leela) होटल में सुबह नौ बजे से आयोजित इस कार्यक्रम में देश-विदेश के शीर्ष लेखक, शिक्षाविद, विद्वान और प्रकाशक शामिल हुए और विभिन्न सत्रों में अपने विचार रखे।
इस मौके पर आयोजित एक सत्र में लेखक, कॉलमिस्ट और ‘NASSCOM’ के पूर्व प्रेजिडेंट डॉ. किरण कार्निक ने अपनी किताब ‘Decisive Decade: India 2030 Gazelle or Hippo’ के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने बताया कि कैसे एक दशक देश में हर पहलू को लेकर भारी बदलाव ला सकता है।  
‘आईबीएलएफ’ के चौथे एडिशन के तहत आयोजित गुरुग्राम चैप्टर में डॉ. कार्निक ने वर्ष 1991 के बाद के वर्षों को काफी महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि इस दौरान बड़े पैमाने पर हुए आर्थिक और व्यावसायिक बदलावों ने भारत को एक चमकते हुए सितारे में तब्दील कर दिया।
वर्ष 2004 से 2015 के दशक की बात करते हुए डॉ. कार्निक का कहना था, ‘इस दौरान करीब 271 मिलियन लोगों को गरीबी रेखा से ऊपर उठाया गया। इस गरीबी रेखा को सिर्फ आय से नहीं बल्कि तमाम अन्य दृष्टिकोण से मापा गया।’ इस बाद डॉ. कार्निक ने कहा कि वैश्विक मंदी और नोटबंदी के बाद वर्ष 2019 थोड़ी आशाओं का वर्ष था, जिससे हमें उच्च विकास पथ पर वापस लाने की उम्मीद थी।
अपने सत्र के दौरान डॉ. कार्निक ने ब्रेक्सिट (Brexit) जैसे प्रभावशाली वैश्विक परिवर्तनों का उल्लेख करते हुए कहा, ‘भले ही ब्रिटेन यूरोप में स्वाभाविक प्रवेश बिंदु था, लेकिन ब्रिटेन के बाहर निकलने ने भारत को एक अवसर प्रदान किया, क्योंकि यह यूके का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है।
उन्होंने यह भी बताया कि कैसे भू-राजनीतिक घटनाओं ने उनके लेखन और उनकी पुस्तक के विषय को प्रभावित किया, जिनमें चीन और अमेरिका के बीच व्यापारिक युद्ध (trade war) और दक्षिण चीन सागर और ताइवान में होने वाली घटनाएं शामिल हैं।
डॉ. कार्निक ने 3सी (3C) को कोविड (Covid), संघर्ष (conflict) और जलवायु (climate) के रूप में परिभाषित करते हुए कहा कि भारत के लिए अवसर और चुनौतियां एक ऐसे बिंदु पर आ गए हैं, जहां हमें भू-राजनीतिक रुख को देखने की जरूरत है।
उन्होंने सत्ता की राजनीति यानी (power politics) से अलग हटकर काम करने और अपनी जगह बनाने के लिए भारत की सराहना की, फिर चाहे वह टीकाकरण अभियान हो या विकास दर में चीन को पीछे छोड़ना हो।
अपनी इस किताब में डॉ. कार्निक ने टेक्नोलॉजी, राजनीति, शिक्षा व स्वास्थ्य समेत भारत को प्रभावित करने वाले नौ प्रमुख फील्ड्स को उठाया है। इसके बाद ‘विजडम ट्री’ (Wisdom Tree) के फाउंडर और पब्लिशर शोभित आर्य और डॉ. कार्निक ने ज्यादा से ज्यादा लोगों को गरीबी रेखा से ऊपर उठाने के उपायों पर चर्चा की।
बता दें कि तीन संस्करणों की शानदार सफलता के बाद यह इस कार्यक्रम का चौथा संस्करण है, जो 21 शहरों में आयोजित किया जाना है, जिसमें दिल्ली और गुरुग्राम चैप्टर के बाद अब 21 जनवरी को मुंबई चैप्टर का आयोजन किए जाएगा।
डिजिटल न्यूज पब्लिशर्स एसोसिएशन (DNPA) ने रविवार को ‘e4m-DNPA डिजिटल इम्पैक्ट अवॉर्ड्स 2023’ के विजेताओं की घोषणा की।
डिजिटल न्यूज पब्लिशर्स एसोसिएशन (DNPA) ने रविवार को ‘e4m-DNPA डिजिटल इम्पैक्ट अवॉर्ड्स 2023’ के विजेताओं की घोषणा की। आज घोषित किए गए विजेताओं को 20 जनवरी को नई दिल्ली में e4m-DNPA डिजिटल कॉन्क्लेव और डिजिटल इम्पैक्ट अवॉर्ड्स में पुरस्कार दिए जाएंगे।
e4m-DNPA डिजिटल इम्पैक्ट अवॉर्ड्स ऐसे डिजिटल टेक्नोलॉजी इनोवेशन को पहचान दिलाता है, जिन्होंने नागरिकों के जीवन में सुधार किया है और अपने कार्य से राष्ट्रीय निर्माण को बढ़ावा दिया है। e4m-DNPA डिजिटल इम्पैक्ट अवॉर्ड्स 2023 भारत की ऐसी अत्याधुनिक डिजिटल पहल का सम्मान करता है, जो विभिन्न क्षेत्रों में नागरिकों को ऑन-डिमांड गवर्नेंस और सेवाएं प्रदान करते हैं।
उपभोक्ता मामलों के खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय का ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ (ONORC), स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय का ‘CoWIN ऐप’, वित्तीय सेवा विभाग की ‘प्रधानमंत्री जन-धन योजना’, राजस्व विभाग का ‘जीएसटी’ वित्त मंत्रालय, दिल्ली पुलिस का ‘हिम्मत ऐप’, पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय का CAMPA ऐप, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी मंत्रालय (MEITY) का ‘E Gov पोर्टल’ व ‘डिजी लॉकर’, शिक्षा मंत्रालय के NCERT के तहत ‘DIKSHA प्लेटफॉर्म’ ऐप, और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय का POSHAN ट्रैकर ऐप ऐसे ऐप्स हैं, जिन्होंने देश के प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के 17 शीर्ष पब्लिशर्स के डिजिटल आर्म्स के शीर्ष संघ DNPA द्वारा स्थापित प्रतिष्ठित डिजिटल इम्पैक्ट अवॉर्ड जीता।
पुरस्कारों की घोषणा 8 कैटेगरीज में की गई, जो इस प्रकार हैं –
1- Best Use of Digital Media for Human Resource Development & Education – DIKSHA (DIKSHA is a Digital Infrastructure for Knowledge Sharing)
2- Best Use of Digital Media for Health – CoWIN App (Co-WIN application is the digital backbone for the vaccination drive in India).
Best Use of Digital Media for Financial Reforms – Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana (Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana is a revolutionary Financial Inclusion Program)
3- Best Use of Digital Media for Sustainability and Environment Protection – CAMPA- (e-green watch portal)
4- Best Use of Digital Media to Promote Ease of Business  – E-governance Portal .It is the national Portal of India which provides a single-window access to information and services that are electronically delivered from the Government.
5- Best Use of Digital Media for Governance & Administrative Reforms – 
6A)-  GST Portal- Goods & Services Tax
6B)-  Best Use of Digital Media for Governance & Administrative Reforms –  One Nation One Ration Card Yojana
7- Best Use of Digital Media for Women & Child Welfare Reforms –  
7A)- Poshan Tracker App
7B)- Himmat Plus Ap
8 Best Use of Digital Media for Ease of Living –Digilocker
इस कार्यक्रम के विजेताओं का चुनाव देश के पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त और सूचना-एवं प्रसारण मंत्रालय के पूर्व सचिव सुनील अरोड़ा के नेतृत्व में गठित जूरी द्वारा किया गया।
गठित जूरी में शामिल सदस्य:
1. एस. रवि, मैनेजिंग पार्टनर, रवि राजन एंड कंपनी, चेयरमैन- TFCI और पूर्व चेयरमैन, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE)
2. अरुणा शर्मा, पूर्व सचिव, आईटी व इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय, भारत सरकार
3. डॉ. अनुराग बत्रा, चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ, BW बिजनेस वर्ल्ड और एक्सचेंज4मीडिया
4. संजय द्विवेदी, डायरेक्टर जनरल, ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कॉम्युनिकेशन’ (IIMC)
5. आशीष भसीन, को-फाउंडर व चेयरमैन, आरडी एंड एक्स नेटवर्क
6. डॉ. जगदीश मित्रा, चीफ स्ट्रेटेजी ऑफिसर व हेड ऑफ ग्रोथ, टेक महिंद्रा
तीन दिसंबर, 2022 को नई दिल्ली के एरोसिटी स्थित रोजेट हाउस में इस कार्यक्रम के भव्य आयोजन के बाद अब गुरुग्राम स्थित ‘द लीला’ (The Leela) होटल में 11 जनवरी को इसका आयोजन किया जा रहा है।
देश के प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान ‘BW बिजनेस वर्ल्ड’ द्वारा एक फिर ‘इंडिया बिजनेस लिटरेचर फेस्टिवल’ (IBLF) कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। तीन दिसंबर, 2022 को नई दिल्ली के एरोसिटी स्थित रोजेट हाउस में इस कार्यक्रम के भव्य आयोजन के बाद अब गुरुग्राम स्थित ‘द लीला’ (The Leela) होटल में इसका आयोजन किया जा रहा है। 11 जनवरी 2023 को सुबह नौ बजे से होने वाले इस कार्यक्रम में देश-विदेश के शीर्ष लेखक, शिक्षाविद, विद्वान और प्रकाशक शामिल होंगे और अपने विचार रखेंगे। कार्यक्रम में बातचीत, पैनल चर्चा और रीडिंग शामिल होंगे।
बता दें कि तीन संस्करणों की शानदार सफलता के बाद यह इस कार्यक्रम का चौथा संस्करण है, जो 21 शहरों में आयोजित किया जाना है, जिसमें दिल्ली के बाद अब गुरुग्राम चैप्टर का आय़ोजन किया जा रहा है।
गौरतलब है कि बिजनेस एक सतत विकसित और बहुआयामी क्षेत्र है। बिजनेस को कैसे चलाया जाए और प्रतिस्पर्धा के इस दौर में कैसे इसे आगे रखा जाए, यह प्रमुख विषय है। हालांकि, इस विषय पर पहले भी काफी बोला-लिखा और पढ़ा जा चुका है, लेकिन अभी भी इसमें इस दिशा में काफी गुंजाइश है।
यही कारण है कि IBLF एक बहु-विषयक कार्यक्रम के तौर पर उभर रहा है, जो भारत और विदेशों के शीर्ष लेखकों, शिक्षाविदों, विद्वानों और पब्लिशर्स को एक मंच प्रदान करता है। यह साहित्य में रुचि रखने वाले समान विचारधारा वाले लोगों का एक ऐसा संगम है, जो व्यक्तिगत और व्यावसायिक सिद्धांत और व्यवहार पर प्रभाव डालता है और उनके पास बिजनेस और इसके विभिन्न पहलुओं में योगदान देने के लिए बहुत कुछ है।
अक्सर यह देखा जाता है कि किसी कंपनी में वरिष्ठता बढ़ने के साथ-साथ पढ़ने का समय उत्तरोत्तर कम होता जाता है। ‘आईबीएलएफ’ का विचार ऐसे शीर्ष नेतृत्व में पढ़ने की आदत फिर से डालना है। एक बार जब वरिष्ठ नेतृत्व लगातार पढ़ने और सीखने की आदत विकसित कर लेता है, तो उनके लिए अपनी कंपनी में युवा पेशेवरों को इसका पालन करने के लिए प्रेरित करना आसान हो जाता है।
जहां हम यह स्वीकार करते हैं कि पढ़ना एक अच्छी आदत है और इसे विकसित करना चाहिए, वहीं प्रभावी ढंग से लिखना भी काफी कठिन कार्य है। ऐसे में आईबीएलएफ का उद्देश्य उन सभी के कार्यों को एक नई पहचान और मंच देना है, जो अपने विचारों को स्पष्ट और प्रभावी तरीके से सामने रखने जैसे कठिन कार्य को पूरा कर रहे हैं।  
IBLF के गुरुग्राम चैप्टर में तमाम प्रतिष्ठित वक्ताओं में शामिल किया जा रहा है, जिनमें ‘RenewPower’ के चेयरमैन और सीईओ सुमंत सिन्हा, ‘Jindal Global Law School’ की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. ऐश्वर्या पंडित, ‘Rothschild & Co India’ की चेयरपर्सन और ‘Advent International Private Equity, India’ की सीनियर एडवाइजर नैना लाल किदवई, ‘Aditya Birla Group’ के ग्रुप एग्जिक्यूटिव प्रेजिडेंट (Corporate Strategy and Business Development) डी. शिवकुमार, ‘Deloitte India’ के पार्टनर और चीफ टैलेंट ऑफिसर एस.वी, नाथन, ‘Randstad Japan’ के चेयरमैन और सीईओ पॉल डुपोइस (Paul Dupuis), ‘RachnaRestores’ की फाउंडर रचना छाछी (Rachna Chhachhi), भारत सरकार के पूर्व वित्त एवं आर्थिक मामलों के सचिव और ‘SUBHANJALI’ के इकनॉमिक व फाइनेंस एडवाइजर सुभाष चंद्रा शामिल हैं।
इनके अलावा इस लिस्ट में ‘Caprihans India Ltd’ के प्रेजिडेंट और सीईओ रॉबिन बनर्जी, लेखक, कॉलमिस्ट और ‘NASSCOM’ के पूर्व प्रेजिडेंट डॉ. किरण कार्निक, ‘Centre for China Analysis and Strategy’ के प्रेजिडेंट जयदीप रानाडे, ‘Leadership Works’ के फाउंडर और सीईओ प्रकाश अय्यर, ‘Central Association of Private Security Industry’ के चेयरमैन कुंवर विक्रम सिंह, ‘Bharadwaj Bharadwaj & Associates Architects’ के पार्टनर और ‘Dr Satyakam Bharadwaj Vedic Research Foundation के प्लानर्स व फाउंडर ट्रस्टी दक्ष भारद्वाज आदि का नाम भी शामिल है। बता दें कि इन जाने-माने लेखकों की किताबें मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान करती हैं और जीवन के अनुभवों को पठनीय रूप में प्रस्तुत करती हैं।

मीडिया फर्म ‘नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड‘ (NDTV) को लेकर एक बड़ी खबर निकलकर सामने आई है।
मीडिया फर्म ‘नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड‘ (NDTV) को लेकर एक बड़ी खबर निकलकर सामने आई है। खबर है कि अडानी समूह ने ‘एनडीटीवी’ के संस्थापक प्रणय रॉय और राधिका रॉय से ‘एनडीटीवी’ में उनके अधिकांश शेयर हासिल कर लिए हैं। अडानी समूह ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी स्टॉक एक्सचेंज को दी है।
अडानी समूह की ओर से फाइलिंग में बताया गया कि एनडीटीवी की प्रमोटर कंपनी आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड की एक अप्रत्यक्ष सहायक कंपनी) ने एनडीटीवी में प्रणय रॉय और राधिका रॉय से इंटर-से ट्रांसफर के माध्यम से 27.26% इक्विटी हिस्सेदारी हासिल की है।
बता दें कि 23 दिसंबर को प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने NDTV में अपनी शेष 32.26% हिस्सेदारी में से 27.26% अडानी समूह को बेचने की घोषणा की थी।
अडानी समूह ने फाइलिंग में जानकारी दी कि विश्वप्रधान कमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड (कंपनी की एक अप्रत्यक्ष सहायक कंपनी) की NDTV में 8.27% इक्विटी हिस्सेदारी है और RRPR (अधिग्रहण से पहले) की NDTV में 29.18% इक्विटी हिस्सेदारी थी। अब अधिग्रहण के परिणामस्वरूप, RRPR की 56.45% हिस्सेदारी होगी।
बता दें कि अडानी ग्रुप ने 342.65 रुपए प्रति शेयर की कीमत पर प्रणय रॉय और राधिका रॉय के शेयरों का अधिग्रहण किया है। इस कीमत के आधार पर, 1.75 करोड़ शेयरों की बिक्री से रॉय परिवार को 602.30 करोड़ रुपए प्राप्त होते हैं।  
अडानी समूह ने जानकारी दी कि एनएसई के ब्लॉक डील विंडो पर 30 दिसंबर, 2022 को अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी हो गई।  
‘एक्सचेंज4मीडिया’ समूह के सहयोग से ‘डीएनपीए’ के पहले वार्षिक कॉन्क्लेव का आयोजन 20 जनवरी 2023 को नई दिल्ली में किया जाएगा।
‘एक्सचेंज4मीडिया’ (exchange4media) समूह के सहयोग से ‘डीएनपीए’ (Digital News Publishers Association) के पहले वार्षिक कॉन्क्लेव का आयोजन 20 जनवरी 2023 को नई दिल्ली में किया जाएगा। बता दें कि ‘डीएनपीए’ प्रिंट व टेलीविजन के क्षेत्र में काम कर रही देश की शीर्ष मीडिया कंपनियों की डिजिटल विंग का प्रतिनिधित्व करता है।
यह कॉन्क्लेव ऐसा मंच है, जिस पर डिजिटल मीडिया के क्षेत्र में हुए नए-नए तकनीकी विकास के साथ-साथ उन चुनौतियों व उनके समाधान पर चर्चा की जाएगी, जिनका सामना पत्रकारिता की बेहतरी और विकास के क्रम में मीडिया को समय-समय पर करना पड़ता है।
इस कॉन्क्लेव में बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों और न्यूज मीडिया पब्लिशर्स के बीच संबंधों की नई रूपरेखा सामने आने की उम्मीद है। इसके साथ ही दिन भर चलने वाले इस कॉन्क्लेव में देश के प्रमुख न्यूज पब्लिशर्स और अन्य हितधारकों के साथ दुनियाभर के तमाम विषय विशेषज्ञ भी मौजूद रहेंगे और अपने विचार रखेंगे।
इस कॉन्क्लेव में वरिष्ठ नौकरशाहों, विदेशी नीति निर्माताओं, वरिष्ठ पत्रकारों, पब्लिशर्स, टेक्नोलॉजी लीडर्स और अन्य हितधारकों द्वारा डिजिटल मीडिया को और सशक्त बनाने के लिए अनुभवों व विचारों का आदान-प्रदान किया जाएगा।
इस मौके पर ‘e4m-DNPA Digital Impact Awards 2023’ के तहत उन शख्सियतों को सम्मानित भी किया जाएगा, जिन्होंने अपने काम से इस क्षेत्र में नए प्रयोग किए हैं और सफलता की नई इबारत लिखी है। इन विजेताओं का चयन करने के लिए 28 दिसंबर 2022 को जूरी मीट का आयोजन किया जाएगा।
इस आयोजन के तहत नॉमिनेशंस का चयन ‘एक्सचेंज4मीडिया’ समूह की रिसर्च टीम द्वारा किया गया है। इस कार्यक्रम के विजेताओं का चुनाव देश के पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त और सूचना-एवं प्रसारण मंत्रालय के पूर्व सचिव सुनील अरोड़ा के नेतृत्व में गठित जूरी द्वारा किया जाएगा।
गठित जूरी में शामिल सदस्य:
1. एस. रवि, मैनेजिंग पार्टनर, रवि राजन एंड कंपनी, चेयरमैन- TFCI और पूर्व चेयरमैन, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE)
2. अरुणा शर्मा, पूर्व सचिव, आईटी व इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय, भारत सरकार
3. डॉ. अनुराग बत्रा, चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ, BW बिजनेस वर्ल्ड और एक्सचेंज4मीडिया
4. संजय द्विवेदी, डायरेक्टर जनरल, ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कॉम्युनिकेशन’ (IIMC)
5. आशीष भसीन, को-फाउंडर व चेयरमैन, आरडी एंड एक्स नेटवर्क
6. डॉ. जगदीश मित्रा, चीफ स्ट्रेटेजी ऑफिसर व हेड ऑफ ग्रोथ, टेक महिंद्रा
डिजिटल मीडिया के बेहतर इस्तेमाल के लिए डीएनपीए की ओर से निम्नलिखित आठ श्रेणियों में पुरस्कार दिए जाने हैं, जोकि निम्न हैं-
1. बेस्ट यूज ऑफ डिजिटल मीडिया फॉर ह्यूमन रिसोर्स डेपलपमेंट एंड एजुकेशन
2. बेस्ट यूज ऑफ डिजिटल मीडिया फॉर हेल्थ
3. बेस्ट यूज ऑफ डिजिटल मीडिया फॉर फाइनेंशियल रिफॉर्म
4. बेस्ट यूज ऑफ डिजिटल मीडिया फॉर सब्सटेनब्लिटी एंड एनवॉयरमेंट प्रोटेक्शन
5. बेस्ट यूज ऑफ डिजिटल मीडिया टू प्रमोट ईज ऑफ बिजनेस
6. बेस्ट यूज ऑफ डिजिटल मीडिया फॉर गवर्नेंस एंड एडमिनिस्ट्रेटिव रिफॉर्म
7. बेस्ट यूज ऑफ डिजिटल मीडिया फॉर वुमेन एंड चाइल्ड वेलफेयर रिफॉर्म्स
8. बेस्ट यूज ऑफ डिजिटल मीडिया फॉर ईज ऑफ लिविंग
NDTV ने दावा किया कि अडानी समूह की VCPL ने ओपन ऑफर के जरिए कंपनी में 5,330,792 इक्विटी शेयरों के साथ 8.27% की हिस्सेदारी प्राप्त की है।
मीडिया फर्म ‘नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड’ (NDTV) ने दावा किया कि अडानी समूह की विश्वप्रधान कमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड (VCPL) ने ओपन ऑफर के जरिए कंपनी में 5,330,792 इक्विटी शेयरों के साथ 8.27% की हिस्सेदारी प्राप्त की है। इस कदम से कंपनी में अडानी समूह की कुल शेयरधारिता अब बढ़कर 37.45% हो गई है।
इस साल 22 नवंबर को गौतम अडानी के नेतृत्व वाले अडानी समूह ने एनडीटीवी में अतिरिक्त 26% हिस्सेदारी के लिए अपनी खुली पेशकश (ओपन ऑफर) शुरू की थी, जो 5 दिसंबर को समाप्त हो गई थी। एनडीटीवी की प्रमोटर फर्म आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (RRPR Holding Private Limited) ने अपनी 99.5% शेयरों (इक्विटी) को अडानी के स्वामित्व वाली विश्वप्रधान कमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड (VCPL) को हस्तांतरित कर दिया था, जिसके बाद ओपन ऑफर की पेशकश गई थी।
नेटवर्क के बयान के मुताबिक, डॉ. प्रणय रॉय और राधिका रॉय के पास अब कंपनी में क्रमश: 15.94% और 16.32% के शेयर होंगे। आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड की एक अप्रत्यक्ष सहायक कंपनी) के पास 29.18% और वीसीपीएल के पास 8.27% की हिस्सेदारी होगी।
जानी-मानी बिजनेस साइट की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि संजीव मेहता की जगह इस पद के दावेदारों की दौड़ में रोहित जावा और प्रिया नायर सबसे आगे चल रहे हैं।
बहुराष्ट्रीय कंपनी ‘हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड’ (HUL) के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ संजीव मेहता अपने पद से जल्द अलग हो सकते हैं। जानी-मानी एक बिजनेस साइट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने संजीव मेहता के उत्तराधिकारी की तलाश में उपयुक्त कैंडिडेट्स को शॉर्टलिस्ट करना शुरू कर दिया है।
हालांकि, रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कंपनी ने उत्तराधिकारी की प्रक्रिया शुरू होने की आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की है।
इस रिपोर्ट में कहा गया है कि इस पद के दावेदारों की दौड़ में रोहित जावा और प्रिया नायर सबसे आगे चल रहे हैं। रोहित जावा ‘यूनिलीवर’ में चीफ ऑफ ट्रांसफॉर्मेशन के पद पर जबकि प्रिया नायर पैरेंट कंपनी के Beauty and Wellbeing सेगमेंट में ग्लोबल चीफ मार्केटिंग ऑफिसर की भूमिका निभा रही हैं।   
बता दें कि संजीव मेहता वर्ष 2013 से इस कंपनी की कमान संभाल रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि HUL में अब तक आंतरिक उम्मीदवारों यानी यहीं काम करने वालों को उत्तराधिकारी के लिए चुने जाने की परंपरा रही है।
एक्सचेंज4मीडिया ग्रुप ने अपने बहुप्रतिष्ठित कार्यक्रम ‘इंडियन कंटेंट मार्केटिंग अवॉर्ड्स’ (ICMA) 2022 का आयोजन गुरुवार को किया।
एक्सचेंज4मीडिया ग्रुप ने अपने बहुप्रतिष्ठित कार्यक्रम ‘इंडियन कंटेंट मार्केटिंग अवॉर्ड्स’ (ICMA) 2022 का आयोजन गुरुवार को किया। कार्यक्रम के दौरान माइंडशेयर को 'एजेंसी ऑफ द ईयर' के लिए प्लैटिनम अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। वहीं, हिन्दुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड (HUL) ने 'ब्रैंड ऑफ द ईयर' का खिताब जीता।
बता दें कि ‘इंडियन कंटेंट मार्केटिंग अवॉर्ड्स’ का उद्देश्य उत्कृष्ट कंटेंट मार्केटिंग कैंपेन को और कंटेंट मेकर्स को एक नई पहचान दिलाना है, जो कंटेंट मार्केटिंग डोमेन में पथ-प्रदर्शक कार्य कर रहे हैं।
तस्वीरों के जरिए यहां देखें कार्यक्रम की कुछ झलकियां-










‘हेट स्पीच’ को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा न्यूज चैनल्स को लगाई गई लताड़ को लेकर आपका क्या मानना है?

टॉप 5 न्यूज़:Microsoft, Journalist Rana Ayyub, Journalist Sangeeta Tiwari, ANI, पत्रकार संगीता तिवारी
Young journalist Sonika Singh puts an end to her brief stint in Hindi news channel 'Bharat24'
Senior TV journalist Sangeeta Tiwari has joined Press Trust of India (PTI) as Input Editor.
Top 5 News: Journalist Deepak Chaurasia, Upendra Rai, Bharat Express, Journalist Arun Patial
Senior TV journalist Deepak Chaurasia, associated with 'Zee Media', will fulfill this responsibility

It’s the most read portal on news and views on Media. Published in Hindi. It is essential reading for publishers, journalists, media planners, marketers and others who need to connect with the largest and fastest growing market segment Hindi speaking people in India.
प्रिंट
टीवी
रेडियो
डिजिटल
एडमिशन-जॉब्स
मीडिया फोरम
सोशल मीडिया
टेलिस्कोप
इंडस्ट्री ब्रीफिंग
ब्रैंड स्पीक्स
फोटो
वीडियो
Subscribe Here
Sitemap
Contact Us
Newsletters
Privacy Policy
Term & Condition
Cookie Policy
GDPR Compliance
Corrections Policy
Ethics Policy
Fact Checking Policy
Ownership Info
Editorial Team
ADSERT WEB SOLUTIONS PVT. LTD., 1st FLOOR, B-20, SECTOR 57 NOIDA (U.P)
[email protected]
+91- 9958894163
Copyright © 2023 ADSERT WEB SOLUTIONS PVT. LTD.

source

About Summ

Check Also

Anime wallpapers i hope you like it FOLLOW my instagram for more pics of anime Summersourcingshow Picture

Source by ljubicastanisavljevic